38.1 C
New Delhi
Tuesday, May 17, 2022
HomeENGLISHAUTOTata Safari price Shocked in Nepal goes upto 1 crore for Top...

Tata Safari price Shocked in Nepal goes upto 1 crore for Top Model | 1 करोड़ रुपये की Tata Safari और 6 लाख की Maruti Alto, इस देश में मोटा टैक्स वसूल रही सरकार, जानें भारत के पड़ोसी देश के क्या हैं हाल


दरअसल, कई कंपनियां पड़ोसी देश नेपाल और पाकिस्तान में अपने वाहनों को निर्यात करती हैं, लेकिन इन देशों में कुछ कारों पर भारी टैक्स लगाया जाता है, और टैक्स लगने के बाद इन कारों की कीमत भारत के मुकाबले 3 गुना ज्यादा हो जाती है। ध्यान दें, कि भारत में बिकने वाली कई कारें पाकिस्तान में भी बेची जाती हैं, लेकिन यहां की कीमत और पाकिस्तान की कीमत में अंतर बहुत बड़ा है, जो यकिनन आपको चौंका देंगा।. उदाहरण के लिए टाटा सफारी की भारत में एक्सशोरूम कीमत 15.25 लाख रुपये से लेकर 23.46 लाख रुपये तक तय की गई है। वहीं नेपाल में इस कार की कीमत 63.56 लाख रुपये शुरू होती है।

ये भी पढ़ें : आ रही है किआ की इलेक्ट्रिक कार, 18 मिनट में होगी चार्ज मिला Car of The Year 2022 का भी अवार्ड

नेपाल में 6 और 7-सीटर टाटा सफारी की एक्सशोरूम कीमत 83.49 लाख रुपये से लेकर 1 करोड़ रुपये तक जाती है। इसके साथ जहां किआ सॉनेट की एक्सशोरूम कीमत 7.15 लाख रुपये से शुरू होती है, वहीं नेपाल में इस कार की कीमत 23.10 लाख रुपये तय की गई है। जानकारी के लिए बता दें कि नेपाल में महंगे वाहनों पर सरकार 298 फीसदी तक टैक्स वसूल करती है। अब एक नजर डालते हैं, पाकिस्तानी कारों पर। पाकिस्तान में सुजुकी कई सारी कारें बेचती है। इनमें ऑल्टो, वैगनआर और स्विफ्ट शामिल हैं। पाकिस्तान में ऑल्टो की कीमत 14.75 लाख पाकिस्तानी रुपये से शुरू होती है जो भारतीय करंसी में 6 लाख रुपये होती है।

ये भी पढ़ें : Bajaj ने ट्रेडमार्क कराया ‘Blade’ नाम, बाइक, स्कूटर या फिर इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर?

वहीं वैगनआर को पाकिस्तान में 8.47 लाख रुपये की कीमत पर बेचा जाता है। दिलचस्प बात यह है, कि पाकिस्तान में बिकने वाली वैगनआर अभी पुरानी जनरेशन में है, जबकि भारत में कार की नई जनरेशन बीते 3 साल से बेची जा रही है। खैर, ये सिर्फ पाकिस्तान या नेपाल की बात नहीं हैं, टाटा और मारुति घरेलू वाहन कंपनियां हैं, और इन कारों को देश में ही बनाया जाता है, जिसके चलते इनकी कीमत भी बजट में होती है, वहीं भारतीय बाजार में भी जो कंपनियां कारों को इंम्पोर्ट कर सेल करती हैं, उनकी कीमत काफी अधिक होती हैं।

maruti_alto_1-amp.jpg

!function(f,b,e,v,n,t,s)
{if(f.fbq)return;n=f.fbq=function(){n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)};
if(!f._fbq)f._fbq=n;n.push=n;n.loaded=!0;n.version=’2.0′;
n.queue=[];t=b.createElement(e);t.async=!0;
t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window, document,’script’,
‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘169829146980970’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);



Source link

RELATED ARTICLES
%d bloggers like this: