38.1 C
New Delhi
Tuesday, May 17, 2022
HomeENGLISHTECHभारत में अप्रैल महीने के दौरान मिलीं 88 लाख नौकरियां, ये महामारी...

भारत में अप्रैल महीने के दौरान मिलीं 88 लाख नौकरियां, ये महामारी के बाद एक महीने में सबसे ज्यादा | 88 lakh jobs were found in India during the month of April, this is the highest in a month after the epidemic


  • Hindi News
  • Business
  • 88 Lakh Jobs Were Found In India During The Month Of April, This Is The Highest In A Month After The Epidemic

नई दिल्ली3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अप्रैल में देश में 88 लाख लोगों को रोजगार मिला है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना महामारी के बाद एक महीने में सर्वाधिक नौकरियां मिली हैं। हालांकि रोजगार की मांग की तुलना में उपलब्ध नौकरियां कम रहीं।

CMIE के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ महेश व्यास ने कहा, भारत की लेबर फोर्स अप्रैल में 8.8 मिलियन (88 लाख) बढ़कर 437.2 मिलियन (43.72 करोड़) हो गई, जो महामारी की शुरुआत के बाद से सबसे बड़ी मासिक वृद्धि में से एक है।

पुराने लोग काम पर लौटे
रिपोर्ट में कहा गया है कि 88 लाख लोगों को रोजगार मिलने का मतलब है कि इसमें ज्यादातर वे लोग हैं जो किसी कारण से नौकरी से बाहर हो गए थे, और अब काम पर लौट आए हैं।
ऐसा इसलिए है क्योंकि कामकाजी उम्र की आबादी हर महीने 20 लाख से अधिक नहीं बढ़ सकती है और इससे आगे किसी भी वृद्धि का मतलब है कि जो लोग नौकरी से बाहर थे वे फिर से नौकरियों में लौट आए है।

3 महीनों से थी गिरावट
अप्रैल में नौकरियों में 88 लाख की वृद्धि पिछले तीन महीनों के दौरान 1.20 करोड़ की गिरावट के बाद आई है। अप्रैल में रोजगार में वृद्धि इंडस्ट्री और सर्विस सेक्टर में हुई। इंडस्ट्री सेक्टर में जहां 55 लाख रोजगार के अवसर पैदा हुए, वहीं सर्विस सेक्टर में 67 लाख रोजगार जोड़े गए। इस दौरान एग्रीकल्चर सेक्टर में रोजगार 52 लाख घट गया।

अप्रैल में 7.83% रही बेरोजगारी दर
इससे पहले CMIE ने बेरोजगारी दर को लेकर आंकड़े जारी किए थे। इसके अनुसार अप्रैल में देश की बेरोजगारी दर बढ़कर 7.83% पर पहुंच गई है। इससे पहले मार्च में ये 7.60% पर थी। CMIE के आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2022 में शहरी बेरोजगारी की दर 9.22% और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए यह 7.18% रही।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES
%d bloggers like this: